Tuesday, February 27, 2007

my friends....

भले की उम्मीद हो, वही बुराई का एह्सास दिला लेतॆ हैं...
दोस्तो के रन्ग भी अजब हैं, सहुलियत से मजाक बना लेते हैं!!

~ आभास

6 comments:

emgi said...

Hello
felt good to have stumbled across this link...will come back pretty soon once i install hindi fonts
*sheepish grin*

abhas said...

thanks! emgi...?! :)

meera said...

nice :)

abhas said...

so u got the hindi fonts finally :)

emgi said...

yeah...work on win 98 at home!:(

मनीष अग्रवाल said...

बुराई की इस दुनियाँ मे, वफ़ाये-उम्मीद से ड़रना
हंसी यारों की पर भी तुम, कभी यकीन ना करना।
मज़ाके-दिल बहाना है, मौसमे-गुमसुम छोड़ देने का,
तेरे रौशन से चेहरे पर, हंसी के मोती थे जड़ना।